व्हाईट लोट्स इन्टरनेशनल स्कूल ने डिजिटल माध्यम से शिक्षा देने की शुरूआत की

Read Time:3 Minute, 27 Second
सूरत, 30 मार्च, 2020 : समग्र विश्व में कोरोना वाईरस तेज गति से फैलने का खतरा पैदा हुआ है। भारत के एक जिम्मेदार नागरिक के तौर पर हम सभी को एक दूसरे के साथ अंतर बनाना आवश्यक है। यह गंभीर स्थिति में व्हाईट लोट्स इन्टरनेशनल स्कूल के चेयरमैन वी. के. शर्मा ने बताया था कि, स्वास्थ्य और मानवजाति की सलामती के लिए लिए गए सभी कदमों का मैं पूर्ण रूप से समर्थन करता हुँ, किन्तु मेरा मानना है कि जीवन रूक जाना नहीं चाहिए। हमें मिले अवसरों में से सर्जन करना चाहिए और छात्रों को आगामी शैक्षिक सत्र में ले जाने के लिए सोचना चाहिए।
बच्चे समय पर शिक्षा से लंबे समय तक वंचित रहने के कारण असंमजस का अनुभव कर रहे हैं व वर्ष के दूसरे स्तर में उनके पर अध्ययन पूर्ण करने का बोज पैदा होने का भी अनुभव कर रहे हैं। ऐसी स्थिति को ध्यान में लेकर एस्टर इन्स्टिट्यूशन्स का हिस्सा व्हाईट लोट्स इन्टरनेशनल स्कूल ने टेक्नोलोजी का अच्छा उपयोग कर इसके द्वारा वर्च्युअल वर्ल्ड का मार्ग अपनाया है, जिसके द्वारा छात्रों के ज्ञान में बढोतरी कर सकेंगे व वह विभिन्न विषयों समझ प्राप्त कर सकेंगे। इस पहल अन्तर्गत स्कूल के प्रिन्सिपाल पूर्विका सोलंकी ने छात्रों के लिए ओनलाईन ट्रेनिंग क्लासिस का प्रारंभ किया है। यह समग्र प्रोग्राम नियमित टाईमटेबल, छात्रों की उपस्थिति तथा अध्ययन के परिणाम जांच करने जैसी महत्वपूर्ण बाबतों को लक्ष्य में रखकर संभलपूर्वक डिजाईन किया गया है। यह इन्टरेक्टिव सेशन में छात्रों शिक्षको को प्रश्नों पूछ सकेंगे, जिसका उत्तर क्लास पूर्ण हो उसके पूर्व दिया जाएंगा। पावर पोईन्ट प्रेजन्टेशन, विज्युअल डेमोन्स्ट्रेशन, फ्लेशकार्ड तथा चौक और बोर्ड का उपयोग कर उसके द्वारा शिक्षा दी जाएंगी। स्कूल एप्लिकेशन पर मटिरियल और वर्कशीट अपलोड किया जाएंगा, जिससे अध्ययन संपूर्ण और स्पष्ट रह सके। प्राईमरी और सेकन्डरी स्कूल के लिए क्लासिस 1 अप्रैल, 2020 से शुरू होंगी, जबकि सिनियर सेकन्डरी के लिए ह्युमनिटिज, कोमर्स और सायन्स के क्लासिस 21 मार्च से शुरू हो गए हैं। गौरतलब है कि स्कूल ने क्लासरूम देखने माहौल का निर्माण करने में सफल रही है और यह टेक्नोलोजी द्वारा अध्ययन प्रदान करने की दिशा में दर्ज करने योग्य कदम है।
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Previous post गजेरा ट्रस्ट की अनोखी पहल स्कूल के शिक्षक वीडियो के जरिए छात्रों को पढ़ा रहे है
Next post पशुओं के लिए व्यवस्था करने की मांग